CAA पर तुरंत रोक से सुप्रीम कोर्ट ने किया इनकार, गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि डंके की चोट पर कहने आया हूं कि जिसको विरोध करना है करे, CAA वापस नहीं होगा: विरोध में पुलिस का लाठीचार्ज, महिलाओं को जबरन हटाया

0
85
सेफ ओर सिक्योर फरीदाबाद क्राइम न्यूज, दिनांक 22 जनवरी 2019 |राजेश वशिष्ठ के साथ हनीश भाटिया की रिपोर्ट|

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन एक्ट की प्रक्रिया पर तुरंत रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया है, साथ ही इस मामले को संवैधानिक पीठ के हवाले करने पर फैसला भी अगली सुनवाई में होगा. बुधवार को 144 याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को जवाब देने के लिए 4 हफ्ते का वक्त दिया है. सर्वोच्च अदालत ने सुनवाई करते हुए असम, पूर्वोत्तर, उत्तर प्रदेश से जुड़ी याचिकाओं के लिए अलग कैटेगरी बनाई है.

दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर उत्तर प्रदेश के इटावा में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में सैकड़ों महिलाएं सड़क पर आ गईं. इसके बाद पुलिस ने उन्हें वहां से हटाने के लिए धक्का-मुक्की की और महिलाओं के साथ मौजूद भीड़ पर लाठीचार्ज किया.
इटावा के मुस्लिम बाहुल्य इलाके पचराह में मंगलवार की सुबह से ही सैकड़ों की संख्या में महिलाएं एकत्रित होने लगी थीं. देर रात होते-होते इनकी संख्या हजारों में पहुंच गई. हालांकि, प्रशासन ने दोपहर से ही धारा-144 लगे होने का हवाला देते हुए भीड़ को वहां से हट जाने को कहा लेकिन महिलाएं अपने छोटे-छोटे बच्चों के साथ डटी रहीं. महिलाओं का कहना था कि जब सरकार के मंत्री इस कानून के पक्ष में भीड़ एकत्रित कर जुलूस निकाल कर धारा 144 का उलंघन कर सकते हैं तो हम शांतिपूर्ण तरीके से इसका विरोध क्यों नहीं कर सकते हैं.
अंधेरा होते ही महिलाओं के आस-पास पुरुषों की भीड़ जमा होने लगी और संख्या हजारों में पहुंच गई. इसके बाद भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. इस दौरान पुलिस ने वहां मौजूद लोगों को दौड़ा-दौड़ा कर मारा.
वहीं, धरने पर बैठी महिलाओं को सिटी मजिस्ट्रेट और एसडीएम की तरफ से समझाने की कोशिश की गई लेकिन जब बात नहीं बनी तो वहां मौजूद महिलाओं को जबरदस्ती हटाया गया. पुलिस के मुताबिक जिले की सारी फोर्स और आला अधिकारी स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं.
वहीं, प्रोटेस्ट कर रही महिलाओं ने कहा, ‘हमें जबरदस्ती उठाया गया. भद्दी-भद्दी गालियां दी गईं, पीटा गया. लोगों के साथ बदसलूकी की गई. हमलोग शन्ति पूर्वक प्रोटेस्ट कर रहे थे. क्या अब हमें ये अधिकार भी नहीं है. बुजुर्ग और बच्चों को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा.
https://youtu.be/ZS8KJkVV3qs
Amit Shah की टो टूक- ‘विरोध करना हो करें मगर CAA वापस नहीं होने वाला’
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने caa के समर्थन में आज लखनऊ में रैली की. यहां पर उन्होंने कहा कि जिसको विरोध करना हो करे, मगर सीएए वापस नहीं होने वाला है. उन्होंने कहा कि जिसमें भी हिम्मत है वह इस पर चर्चा करने के लिये सार्वजनिक मंच ढूंढ ले. हम चर्चा करने के लिये तैयार हैं. गृह मंत्री ने कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्षों से प्रताड़ित लोगों को अपने जीवन का नया अध्याय शुरू करने का मौका दिया है|
किसी भी प्रकार की खबर सांझा करने के लिए संपर्क करे; — हनीश भाटिया – चीफ रिपोर्टर: 99990-48330,
राजेश वशिष्ठ उर्फ बिल्लू – ब्यूरो चीफ/प्रेसिडेंट सेफ ओर सिक्योर ग्रुप फरीदाबाद: 88606-11484