नगर निगम को करोड़ों का चूना लगाने वाली ग्लोबल कंपनी को फिर टेंडर देने की तैयारी, निगम अधिकारियों की मिलीभगत: वरुण श्योकंद

0
98
सेफ ओर सिक्योर फरीदाबाद क्राइम न्यूज, दिनांक 01 अगस्त 2019
फरीदाबाद: बता दें कि आरटीआई कार्यकर्ता वरुण श्योकंद ने आक्रोश जताते हुए कहा कि क्या यही है भ्रष्टाचार विरोधी भाजपा का असली चेहरा। पूरे फरीदाबाद को पता है कि ग्लोबल नाम की कंपनी ने नगर निगम के साथ फ्रॉड किया है और राकेश जेई इसको टेंडर भरने की अनुमति दे रहे हैं और अभी तक इसका बल्लभगढ़ का वर्क आर्डर भी कैंसिल नहीं किया गया है और ऊपर से इसे तैयारी है एनआईटी का टेंडर देने की किसी और कंपनी को सामने रखकर, (असल में कागज इसी कंपनी के हैं )। नगर निगम के अफसर फरमा रहे हैं कि हमें पता है कि उसने घोटाला किया है पर अभी तक कंपनी ब्लैक लिस्ट नहीं हुई और उन्हें नहीं पता कि उनका क्या नुकसान हुआ है।
पहले ही दो प्रेस कॉन्फ्रेंस हो चुकी हैं एडवरटाइजमेंट के घोटाले के मामले को लेकर, लेकिन नगर निगम के अधिकारी इस घोटाले से वाकिफ नहीं है।
असल बात तो यह है कि पूरा घोटाला नगर निगम के अफसरों की हिस्सेदारी से ही चल रहा था। हमारी मांग है इन अफसरों को तुरंत प्रभाव से निलंबित किया जाए और सीबीआई से इसकी जांच करवाई जाए।
वहीं दूसरी तरफ सामाजिक कार्यकर्ता वरुण शिवकंद ने मुद्दे को काफी उछाला है और अभी एक शिकायत भी कमिश्नर को डाली है जिसमें लिखा गया है कि
ब्लैक लिस्टेड पार्टियों की डीबेरिंग।
आदरणीय महोदया,
मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में वरुण श्योकंद फरीदाबाद में विज्ञापन निविदा आमंत्रित करने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं और इस तरह से पहले किए जा रहे भ्रष्टाचारी विकृतियों पर अंकुश लगाने की कोशिश कर रहा हूं। मैं आपके संज्ञान में लाना चाहता हूं कि विज्ञापन विभाग के विभिन्न अधिकारियों के बार-बार अनुरोध करने के बावजूद, अनधिकृत विज्ञापन में शामिल होने वाले पार्टियों / व्यक्तियों को पहले नगर निगम फरीदाबाद के नगर निगम क्षेत्र में और उन पार्टियों को, जिन्होंने सरकार को भारी नुकसान पहुंचाया है। अभी भी इन पार्टियों को ई-निविदा में भाग लेने की अनुमति दी गई है। यह नोट करना काफी उचित है कि ‘M/s स्क्वायर’ को एक विज्ञापन फर्म ने भाग लेने की अनुमति दी है, ‘M/s स्क्वायर’ और ‘M/s ग्लोबल’ के बीच एक संघ है जबकि ‘Global’ फर्म श्री विष्णु की है, जो पिछले एक साल से फरीदाबाद में अवैध विज्ञापन गतिविधियों को अंजाम दे रहे थे। विज्ञापन निविदा में भाग लेने के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए तकनीकी बोली के साथ मेसर्स स्क्वायर द्वारा कंसोर्टियम समझौता दायर किया गया है। मुझे यकीन है कि स्क्वायर कंपनी भी उस घोटाले में शामिल है, कृपया उसका जीएसटी बिल भी देखें। यह भी बताना चाहूंगा कि मैंने इस मामले पर दो प्रेस कांफ्रेंस भी की थी जिसमें मैंने मैसर्स ग्लोबल और मैसर्स स्पेस द्वारा फरीदाबाद में किए जा रहे अवैध विज्ञापन बिल के सबूत भी दिखाए थे। मैंने विज्ञापन विभाग, एमसीएफ के श्री राकेश शर्मा जेई के साथ भी बात की थी और उन्होंने भी मुझे आश्वासन दिया था कि ऐसी किसी भी पार्टी को निविदा में भाग लेने की अनुमति नहीं दी जाएगी। बातचीत की रेकॉर्डिंग भी संलग्न है। उपरोक्त तथ्यों को ध्यान में रखते हुए, मैं अब विनम्रतापूर्वक आपसे निवेदन करूंगा कि आप एनआईटी जोन के कल 31/7/2019 को आयोजित होने वाले विज्ञापन निविदा में भाग लेने से मेसर्स स्क्वेयर को डिबार कर दें। इसके अलावा, निविदा नियमों और शर्तों के अनुसार, आपके पास आगे की प्रक्रिया के दौरान किसी भी समय नगर निगम के हित में हो सकता है। अपनी ओर से विवेकपूर्ण कार्रवाई की प्रतीक्षा है।
राकेश जेई और वरुण श्योकंद की फ़ोन रेकॉर्डिंग:
https://linksharing.samsungcloud.com/contents/view?contentsToken=1564637753344CkNiW7d&currentIndex=1
गौर करने वाली बात यह है कि ऐसे ठेकेदार व कंपनियां प्रशासन के अधिकारियों व नेताओं के संरक्षण में रहकर सरकार व प्रशासन को करोड़ों का चूना लगाते हैं और मीडिया व सोशल मीडिया के माध्यम से जमीन से लेकर ऊपर तक आवाज पहुंचने के बावजूद भी उन्हीं भ्रष्ट अधिकारियों की मिलीभगत के माध्यम से उन्हीं ठेकेदारों को दोबारा लूटने का मौका देने की तैयारी कर ली जाती है। जब सड़क पर चलते एक आम आदमी को इस तरीके के भ्रष्टाचार की खबर रहती है तो क्या सत्ता में बैठी सरकार व उच्च अधिकारियों तक की खबर नहीं पहुंचती होगी। अगर पहुंचती है तो इस पर कार्रवाई क्यों नहीं की जाती। एक तरफ भाजपा सरकार भ्रष्टाचार मुक्त सरकार का नारा देती है वहीं दूसरी तरफ उनके कुछ नेता अधिकारियों के साथ मिलकर ऐसे भ्रष्टाचारियों को संरक्षण देते हैं।
किसी भी प्रकार की खबर सांझा करने के लिए संपर्क करे; — हनीश भाटिया – चीफ रिपोर्टर: 99990-48330,
राजेश वशिष्ठ उर्फ बिल्लू – ब्यूरो चीफ/प्रेसिडेंट सेफ ओर सिक्योर ग्रुप फरीदाबाद: 88606-11484